Monday, 20 November 2017

प्रयास कुछ बेहतर के लिए..... सबको खुश रहने का हक़ है,अपने दिल की कहने का हक़ है... बस इसी सोच को बढावा देने का ये प्रयास है.

#तू 

क्या कहदु वो लब्ज़ नहीं जो तुझे बयां करदे,
आओ कभी मेहमाँ बन कर हमारे पास और खुद को हम पर फना  करदो |


तू हँसने का बहाना मेरा,
तू न सोचे क्या असर है मुझ पर तेरा।

तू जैसे सर्दी की धुप सा,
मेरी नज़र से तू एक बच्चा मासूस सा।


तेरे साथ लापरवाही भी सुकून देती है,
तू दूर ही सही पर तेरे लबो पर हस्सी अच्छी लगती है।


आरज़ू बहुत है पर बस कुछ पल अपने मेरे नाम करदो,
कभी मिलो फुर्सत से सुबह मिलो और साथ श्याम करदो।


मत सोच न मेरा न तेरा ये जमाना है,
एक मोका दे तू क्या है मेरे लिए ज़रा इत्मीनान से बताना है।
 
:-मनीष पुंडीर
Post a Comment

बचपन

#बचपन आज हम उन पुरानी बातों को सोचते है अपना वो एग्जाम से पहले की रात की टेंशन,  वो जन्मदिन से एक रात पहले वाली मन ही मन होती प्लानिंग ...